Hindi English Marathi Punjabi Gujarati Urdu

छत्तीसगढ का एक ऐसा गांव – यहा यज्ञ की राख से खेली जाती है होली तीन दिन पहले शुरू हो जाता है ब्रम्ह यज्ञ

छत्तीसगढ का एक ऐसा गांव – यहा यज्ञ की राख से खेली जाती है होली तीन दिन पहले शुरू हो जाता है ब्रम्ह यज्ञ

इन्हे भी जरूर देखे

साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी फैलाने में सफल प्रदेश अध्यक्ष नंदनी नेताम

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी...

साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी फैलाने में सफल प्रदेश महिला मोर्चा महामंत्री श्रीमती विभा अश्वनी अवस्थी

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी...

 

✍🏻”लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव “प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)


छत्तीसगढ का एक ऐसा गांव – यहा यज्ञ की राख से खेली जाती है होली तीन दिन पहले शुरू हो जाता है ब्रम्ह यज्ञ

आज शुक्रवार को गौ भ्रमण यात्रा के साथ होली पर्व का किया गया शुभारंभ


मैनपुर विकासखण्ड एक गांव में होती है अनोखी गौ पूजा, गायों को अपने उपर चलाने का रिवाज

छत्तीसगढ़ के अनोखी होली मैनपुर के कांडसर में ….इस वर्ष पलाश वृक्षराज, चमगादड पक्षीराज, गुबरेल भृग मुख्यअतिथि होंगे

मैनपुर – छत्तीसगढ़ के एक गांव में होली से पहले गौ माता की पूजा होती है। गौसेवा यात्रा, कलश यात्रा, गौ अभिनंदन और फिर ब्रह्म यज्ञ होता है। यज्ञ के समापन के बाद राख से होली खेली जाती है। होली के पहले अनुष्ठान में गौ माता के रास्ते पर सूती कपड़ा बिछाया जाता है, जिस पर गौ माता चलती है। भक्त गौ माता की राह में पेट के बल लेट कर उनके पांव अपने शरीर में लेते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से रोग व्याधि से मुक्ति मिलती है और शुक्रवार से यहा होली का पर्व प्रारंभ भी हो गया है ।

गरियाबंद जिले के आदिसवासी विकासखंड मैनपुर के खजूरपदर गांव में कांडसर गौशाला में होली के 5 दिन पहले गौसेवा पर आधारित मेला लगता है। कांडसर गौ सेवा केंद्र के गौसेवक बाबा उदयनाथ ने 16 साल पहले विश्व शांति ब्रम्ह यज्ञ किया था। तब से होली के 4 दिन पहले हर साल इस यज्ञ की शुरुआत होती है। इस वर्ष आज 22 मार्च शुक्रवार को कलश यात्रा व गौ अभिनंदन से यज्ञ की शुरुआत हुई है। 23 मार्च शनिवार ब्रम्ह मूहुर्त सुबह पांच बजे से यज्ञ प्रारंभ 24 मार्च रविवार यज्ञ सतत् जारी 25 मार्च दिन सोमवार को होली पर्व के अवसर पर पूर्ण आहूती, बाल भोग अर्पण और हवन कुंण्ड के राख से होली का तिलक लगाकर होली खेंलेंगे तथा गौ पुजा के साथ कार्यक्रम का समापन होगा, गौ काष्ठ व विभिन्न औषधियों को हवन कुंड में डाला गया है। बाबा उदयनाथ व उनके अनुयायी ब्रह्म मुहूर्त से देर रात तक निराकार ब्रम्ह के उपासक विधि अनुसार हवन कर रहे हैं। भजन कीर्तन के साथ गौ का महत्व बताया जाता है। यज्ञ का समापन होली पर्व पर की सुबह पूर्णाहुति के साथ होगा। इसके बाद हजारों की संख्या में मौजूद अनुयायी पूर्णाहुति की राख का तिलक लगाकर होली खुलेंगे। गरियाबंद के अलावा रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, बस्तर, कांकेर, धमतरी व महासमुंद जिले सहित ओडिशा से बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं।

चार किमी सफेद सूती वस्त्र में गौ माता करती है भ्रमण

गौ माता की पूजा-अर्चना के बाद यज्ञ शुरू होने से पहले गौ वंश को कांडसर गौशाला से मुख्य बस्ती तक लगभग 4 किलोमीटर का भ्रमण कराया जाता है। बाबा के अनुयायी गौ माता के जयकारे लगाते हुए गाजे-बाजे के साथ गांव भ्रमण पर निकलते हैं। गौ माता की राह में गांवभर में सूती कपड़े बिछाया जाता है। इसी कपड़े पर गौवंश चलते हैं। जगह-जगह गौ वंश का स्वागत पूजा अर्चना के साथ किया जाता है। ऐसे भी भक्त होते हैं जो गौ माता की राह में पेट के बल लेट कर उनके पांव अपने शरीर में लेते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से रोग व्याधि से मुक्ति मिलती है।
गौ माता की सेवा और आस्था को बढ़ाना
बाबा उदयनाथ ने हरिभूमि से चर्चा करते हुए बताया कि इस आयोजन का मकसद गौ वंश की रक्षा व उसके प्रति आस्था को बनाए व बढ़ाये रखना है। गौवंश कि सेवा भले ही कठिन है, लेकिन फलदाई है। बदलते जमाने में लोग अन्य पालतू जानवर पालने में अपनी शान समझते हैं। ऐसे लोगों को गौ पालन के महत्व को समझाने के लिए यह आयोजन किया जा रहा है। साल दर साल भक्तों की लगने वाली भीड़ इस बात का प्रमाण है कि लोगों का रुझान गौ सेवा के प्रति बढ़ रहा है।
निर्गुण ब्रम्ह उपासना पद्धति से होता है यज्ञ-
बाबा उदय नाथ निर्गुण ब्रम्ह यानी शून्य के उपासक है।इस उपासना में प्रकृति प्रेम को श्रेष्ठ माना गया है।गौ सेवा,गौ के प्रति आस्था व प्रकृति प्रेम को बढ़ावा देने 2005 मे इस प्रकृति यज्ञ व धुनि की राख से होली खेलने की शुरुआत किया गया था,बाबा उदय नाथ बताते है कि शुरूवात में केवल उनके अनुयायी जिनकी संख्या उस समय 2 हजार थी वही आते है।अब दूर दराज से लोगो की भीड़ व 15 हजार से भी ज्यादा अनुयायी यज्ञ में जुटेंगे।बाबा उदयनाथ ने बताया कि आज स्वागत के मूख्य मंच में देर रात तक भजन कीर्तन चलेगा ,गौरीशंकर सिरफिरा ने कहा कि ऐसे आयोजन से सनातन धर्म का प्रचार तो होता ही है,प्रकृति जो हमे सब कुछ देती है उसका भी हमे सम्मान करना चाहिए यही सीख मिलता है।गौ पग बाधा, दूर करती है रोग व्याधि- इस पूरे आयोजन में गौ पग बाधा बनने का रिवाज भी प्रमूख माना गया है।मान्यता है कि भ्रमण से लौट कर आने वाले गौ माता के रास्ते मे लेट कर जो व्यक्ति गौ पग बाधा बनते है,जिनके शरीर से गौ माता पार हो कर गुजरती है उनकी शारीरिक कष्ट दूर हो जाता है।इसी मान्यता के चलते स्थानीय लोगो के अलावा दूर दराज से आए लोग गौ के रास्ते मे लेट जाते है।अब तक किसी भी श्रद्धालु को गौ चलने से नुकसान न होना इसकी सत्यता को भी प्रमाणित करता है।
पलाश, चमगादड, गुबरेल कार्यक्रम में मुख्यअतिथि
अलेख ब्रम्ह उपासक बाबा उदयनाथ द्वारा संचालित कांडसर स्थित गौ शाला में मनाए जाने वाली अनूठी ही नही प्रकृति प्रेम जगाने वाली होली कि शुरुवात 22 मार्च को अतिथि सत्कार के साथ हो गई है।हालांकि फागुन की नवमी तिथि से गौ भ्रमण की शुरूवात हो जाति है ।होलिका दहन के तीन दिन पूर्व शुरू होने वाले यज्ञ में भ्रमण कर लौटने वाली गाय अतिथि होती हैं, इनके साथ तीन और अतिथि का चयन होता है जिन्हें तीन दिवस तक मूख्य मंच पर विराजमान किया जाता है।इस बार की यह तीन अतिथि पलाश वृक्षराज, चमगादड पक्षीराज, गुबरेल भृग को बनाया गया।आज इन 03 अतिथियों का भव्य स्वागत किया गया।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इन्हे भी जरूर देखे

साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी फैलाने में सफल प्रदेश अध्यक्ष नंदनी नेताम

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी...

साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी फैलाने में सफल प्रदेश महिला मोर्चा महामंत्री श्रीमती विभा अश्वनी अवस्थी

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   साय सरकार के छः महीने.. छत्तीसगढ़ में उम्मीदों की नई रोशनी...

नवनिर्वाचित सांसद भोजराज नाग जी का प्रथम आगमन बड़ेडोंगर मंडल में हुआ ‌ मां दंतेश्वरी की प्रांगण में कार्यकर्ताओं द्वारा भव्य स्वागत किया...

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) नवनिर्वाचित सांसद भोजराज नाग जी का प्रथम आगमन बड़ेडोंगर मंडल में...

Must Read

ग्राम पंचायत चरौदा में किसान जागरूकता अभियान छत्तीसगढ़ शाकंभरी सेवा संस्थान की पहल

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव "प्रधान संपादक –सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   ग्राम पंचायत चरौदा में किसान जागरूकता अभियान छत्तीसगढ़ शाकंभरी सेवा संस्थान की...

उत्तराखंड के देहरादून में देश के अलग-अलग हिस्सों से आए शिक्षकों के सम्मान के लिए एक कार्यक्रम आयोजित की गई

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) उत्तराखंड के देहरादून में देश के अलग-अलग हिस्सों से आए शिक्षकों...

नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार मेमन ने किया तालाब सौंदर्यीकरण का जायजा, बारिश के पूर्व काम पूरा करने के दिए निर्देश

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक –सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार मेमन ने किया तालाब सौंदर्यीकरण का...

कोदोभाठा (दरलीपारा) के नालियों को नहीं कि गई है साफ-सफाई बरसता के मौसम में मच्छर काटने की चिंताएं ग्रामीणों को सताने लगी

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" जिला ब्यूरो चीफ –चरण सिंह क्षेत्रपाल की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) कोदोभाठा (दरलीपारा) के नालियों को नहीं कि गई है साफ-सफाई...