Hindi English Marathi Punjabi Gujarati Urdu

आइए जानते हैं-मौसंबी सेहत के लिए कितने फायदेमंद और कितने नुकसान हैं

आइए जानते हैं-मौसंबी सेहत के लिए कितने फायदेमंद और कितने नुकसान हैं

इन्हे भी जरूर देखे

भूमि संसाधन विभाग द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस पर मरूस्थल व सुख पुनर्धार की थीम पर शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय झाखरपारा के छात्र -छात्राओं द्वारा...

  ✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) भूमि संसाधन विभाग द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस पर मरूस्थल व सुख...

जिला स्तर पर सड़क सुरक्षा मितानों का प्रशिक्षण

✍🏻"लोकहित 24न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) जिला स्तर पर सड़क सुरक्षा मितानों का प्रशिक्षण छुरा–:–जिला स्तर पर सड़क सुरक्षा...

✍️ “लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव” संपादक – विक्रम कुमार नागेश की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)

आइए जानते हैं-मौसंबी सेहत के लिए कितने फायदेमंद और कितने नुकसान हैं

गरियाबंद- मौसंबी का फल याद आते ही मुंह में पानी आ जाता है। मौसंबी को मीठा नींबू भी कहा जाता है। गर्मी के दिनों में प्यास बुझाने के लिए मीठे नींबू का जूस अमृत की तरह लगता है। मौसंबी में अनेक तरह के विटामिन्स होते हैं, इसमें कैल्शियम, प्रोटीन, फाइबर, आयरन, पोटाशियम, फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में होते हैं। आपने भी मौसंबी को बहुत बार खाया होगा, लेकिन शायद आपको इसके होने वाले सभी फायदों की जानकारी नहीं होगी। आयुर्वेद के अनुसार, मीठा नींबू वात-पित्त-दोष ठीक करता है।

*मौसंबी क्या है*-

मौसंबी को मीठा नींबू भी कहते हैं। गर्मी के दिनों में शरीर में पानी की कमी को पूरा करने में मीठा नींबू का जूस बहुत फायदेमंद होता है। मौसंबी का स्वभाव अम्लीय यानि एसिडिक होता है। मौसंबी के फल का सूखा छिलका कमजोरी दूर करने के साथ-साथ वात को कम करने में भी मददगार होता है। मौसंबी का पेड़ 6 मीटर तक ऊँचा और फैला हुआ होता है। यह कांटों से युक्त और हमेशा हरा रहता है। मौसंबी फल कच्ची अवस्था में हरे रंग का तथा पकने पर सुनहरा या नारंगी रंग का हो जाता है। फल के अन्दर चिकने, सफेद रंग के, तथा नुकीले बीज होते हैं। मौसंबी का रस शारीरिक शक्ति और भूख बढ़ाता है।


*मौसंबी के फायदे*-

दांतो के दर्द में – एक ऐसी आम बीमारी है जिससे हर इंसान कभी-न-कभी पीड़ित होता है। आमतौर पर यह एक ऐसी बीमारी है, जिसमें लोग सबसे पहले घरेलू उपायों को अपनाते हैं। मौसंबी का छिलका दांत के दर्द से राहत दिलाने में बहुत मदद करता है। मौसंबी के फल के छिलके को पीसकर पेस्ट बना लें, और दांत में जहां पर दर्द हो रहा है, वहां पर लगाएं। इससे दांत के दर्द से आराम मिलता है।

सांसो के रोग में आराम दिलाये – सांसों से संबंधित परेशानी में भी मौसंबी का प्रयोग बहुत ही लाभ पहुंचाता है। आयुर्वेद के अनुसार, 40-50 मिली मौसंबी के रस में 1 ग्राम मरिच का पाउडर, तथा सेंधा नमक मिला लें। इसका सेवन करने से सांसों की बीमारी जैसे दमा जैसे रोगों में फायदा मिलता है। सांस संबंधी समस्याओं में मौसंबी का रस बहुत फायदेमंद होता है।

हैजा में लाभकारी मौसंबी- आमतौर पर हैजा दूषित पानी पीने या खाना खाने से होने वाली बीमारी है। यह बीमारी आंत में संक्रमण होने के कारण होती है। मौसंबी का रस हैजा को ठीक करने में सहायता करता है। 50-100 मिली मौसंबी फल के रस का सेवन करने से पित्त कीय् समस्या, उलटी, दस्त ठीक होती है। अत्यधिक प्यास लगने की समस्या में मौसंबी का प्रयोग। कभी-कभी गला या मुंह हमेशा सूखा-सूखा महसूस होने लगता है। इसी तरह कई लोगों को बहुत अधिक प्यास लगने की शिकायत भी रहती है। इसके लिए मौसंबी फल के छिलके को सुखाकर चूर्ण कर लें। इसका सेवन करें। इससे प्यास लगने की समस्या कम हो जाती हैं।

मूत्र रोग में मौसंबी का उपयोग – पेशाब करते समय दर्द, जलन, या पेशाब रुक-रुक कर आने जैसी समस्याएं आ रही हैं तो इस रोग में मौसंबी का उपयोग कर लाभ पा सकते हैं। इसके लिए 50-100 मिली फल के रस का सेवन करें। मौसमी जूस के फायदे से शरीर को इस कष्ट से आराम मिलता है।

 

मुंहासे से दिलाये छुटकारा मौसंबी- मुहासा की समस्या युवा पीढ़ी को सबसे ज्यादा होती है। इससे सौन्दर्य पर असर तो पड़ता ही है, साथ ही आत्मविश्वास पर भी असर पड़ता है। मौसंबी फल के छिलके को छाया में सुखा लें। इसे पीस लें, और इसमें मुल्तानी मिट्टी, हरिद्रा चूर्ण, तथा 1-2 बूँद नींबू का रस मिला लें। इसे चेहरे पर लगाने से झाईयां और मुंहासे आदि विकार दूर होते हैं। इससे चेहरे की कांति बढ़ती है।मधुमेह के लिए मौसम्बी के फायदे- मधुमेह यानी डायबिटीज की समस्या में लोगों को खाने-पीने से संबंधित उलझन महसूस होती है। मौसम्बी के छिलके में मौजूद हेस्पेरिडीन और नरिंगिन,फ्लेवोनॉइड्स में एंटी हाइपरग्लाइसेमिक गतिविधि होती है। इस गतिविधि से ब्लड ग्लूकोज लेवल नियंत्रित रह सकता है। डायबिटीज के मरीज डॉक्टरी सलाह से मौसम्बी के छिल्के का पाउडर पानी के साथ ले सकते हैं। आंखों के लिए मौसंबी-मौसंबी में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल और एंटी- ऑक्सीडेंट गुण मैकुलर डिजनरेशन ।

बढ़ती उम्र के कारण होने वाली आंखों की समस्याएं – आंखों में होने वाले संक्रमण से बचाव कर सकते हैं। ऐसे में एक गिलास पानी में कुछ बूंदें मौसम्बी के रस की डालकर आंखों को धोना लाभकारी हो सकता है। इस मिश्रण से आंखों को धोने से कंजक्टिवाइटिस जैसे आंखों के संक्रमण से बचाव हो सकता है।

मौसंबी ज्यादा मात्रा में सेवन करने से नुकसान-हर चीज की अति नुकसानदायक होती है। कुछ ऐसा ही मौसंबी के साथ भी है। इसका अधिक सेवन हानिकारक हो सकता है। आइए जानते हैं कि ज्यादा मौसम्बी खाने से क्या नुकसान हो सकते हैं।

अगर किसी को सिट्रस एसिड से एलर्जी है, तो मौसंबी का सेवन नुकसानदायक हो सकता है। ऐसे में मौसम्बी के सेवन से एलर्जी हो सकती है। मौसम्बी के सेवन से गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लेक्स डिजीज यानी पेट के एसिड का फूड पाइप में वापस आने की समस्या बढ़ सकती है, क्योंकि यह सिट्रस फल है। संवेदनशील दांत वालों को मौसम्बी खाने से या मौसम्बी का जूस पीने से परेशानी हो सकती है। मौसम्बी एक खट्टा और एसिडिक फल है, जिससे दांतों में सेंसिटिविटी हो सकती है। चेहरे या शरीर पर मौसम्बी का रस लगाकर धूप में निकलने से सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणें त्वचा को नुकसान पहुंचा सकती हैं। ऐसा अक्सर नींबू लगाने पर होता है, इसलिए सावधानी के तौर पर त्वचा पर मौसम्बी लगाने के बाद भी धूप में निकलने से बचें।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इन्हे भी जरूर देखे

भूमि संसाधन विभाग द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस पर मरूस्थल व सुख पुनर्धार की थीम पर शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय झाखरपारा के छात्र -छात्राओं द्वारा...

  ✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) भूमि संसाधन विभाग द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस पर मरूस्थल व सुख...

जिला स्तर पर सड़क सुरक्षा मितानों का प्रशिक्षण

✍🏻"लोकहित 24न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) जिला स्तर पर सड़क सुरक्षा मितानों का प्रशिक्षण छुरा–:–जिला स्तर पर सड़क सुरक्षा...

जल जीवन मिशन योजनांतर्गत पानी टंकी उड़िसा व छत्तीसगढ़ राज्य का बहुत तफात अंतर दिखाई पड़ती है

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   जल जीवन मिशन योजनांतर्गत पानी टंकी उड़िसा व छत्तीसगढ़ राज्य का...

Must Read

अमलीपदर नवीन तहसील एवं क्षेत्र में जीओ टावर का घटा पावर सुध लेने वाला कोई भी नहीं

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   अमलीपदर नवीन तहसील एवं क्षेत्र में जीओ टावर का घटा पावर...

307 ipc का 10 माह से फरार आरोपी गिरफ्तार किया गया

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक –सैयद बरकत अली गरियाबंद (छत्तीसगढ़)   307 ipc का 10 माह से फरार आरोपी गिरफ्तार किया गया वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक...

अवैध गांजा परिवहन करते एक आरोपी को किया गिरफ्तार आरोपियो के कब्जे से कुल 3 किलो 338 ग्राम गांजा बरामद

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक– सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) अवैध गांजा परिवहन करते एक आरोपी को किया गिरफ्तार आरोपियो के...

07 किलोग्राम गांजा के साथ उत्तर प्रदेश का अंतर्राज्यीय गांजा तस्कर जयबिग वर्मा गिरफ्तार

✍🏻"लोकहित 24 न्यूज़ एक्सप्रेस लाइव" प्रधान संपादक –सैयद बरकत अली की रिपोर्ट गरियाबंद (छत्तीसगढ़) 07 किलोग्राम गांजा के साथ उत्तर प्रदेश का अंतर्राज्यीय गांजा तस्कर...